CPU अर्थात केंद्रीय संसाधन इकाई को Computer  का मस्तिष्क भी कहा जा सकता है । यह कंप्यूटर का वह पुर्जा है जहाँ पर सारी गणनाएं तथा Processing होती है, इसके पश्चात ही हमें विभिन्न गणनाओं के परिणाम हमारे सामने आते है । कंप्यूटर से जुड़े अन्य सभी उपकरणों को भी सीपीयू ही नियंत्रित करता है तथा किस उपकरण को कब और क्या Work करना है इसका निर्णय लेता है । 

सीपीयू के तीन मुख्य घटक होते है-

1. ALU (अंकगणित तर्क इकाई)
2. MU (मैमोरी इकाई)
3. CU (नियंत्रण इकाई)

Control Unit सारी प्रक्रिया पर Control रखता है तथा दिए गए निर्देशों के आधार पर कार्य को ALU या MU को वितरित करता है, तत्पश्चात उनके द्वारा दिए परिणाम को आगे Send है| इसे Computer का मष्तिष्क भी कहा जाता है| इनकी कार्य-क्षमता Kilo Heardz, मेगाहर्ट्ज़ तथा गिगाहर्ट्ज़ आदी में नापी जाती है| प्रोसेसर की कार्य-प्रणाली को बिट के आधार पर आँका जाता है, जैसे की 8-बिट, 16-बिट, 32 -बिट एवं 64-बिट। हर एक बिट में दो मान होते हैं (00 या 01 या 10 या 11) इस प्रकार 32-बिट में कुल 232 तक मान होते हैं। 32-बिट Processer  एक समय में कुल 232 तक के आंकडों पर Work करने में सक्षम होते हैं। एक प्रोसेसर में जितने अधिक बिट होंगे उनके कार्य करने की क्षमता एवं सटीकता उतनी ही Strong होगी। 32 -बिट Processer 32 -बिट एवं उससे कम क्षमता तक के ऑपरेटिंग सिस्टम एवं Application पर ही कार्य कर सकता है 32 -बिट प्रोसेसर 64-बिट क्षमता के ऑपरेटिंग सिस्टम एवं Application पर कार्य नहीं कर सकता। जबकि 64-बिट प्रोसेसर 32-बिट एवं उससे कम क्षमता तक के opretingo सिस्टम एवं Application पर कार्य कर सकता है।
Previous Post Next Post