कम्प्यूटर वायरस (Computer Virus)

कम्प्यूटर वायरस (Computer Virus)



परिचय (Introduction)
Computer  वाviras  अपने आप कम्प्यूटर में आ जाने वाला  program code  hota hai  स्रोत द्वारा ready किया जाता है। दुनिया का phla computer वायरस Elk Cloner था, जो 'इन द वाइल्ड' ने प्रकट किया था। यह computer वायरस एप्पल डॉस 3.3 ऑपरेटिंग system  में फ्लॉपी disk के जरिए फैलता है। computer viras हमारे कम्प्यूटर में तबाही लाने वाला program र होता है, जो आपकी files और ऑपरेटिंग syatem में उपस्थित सूचनाओं को बिना आपकी information अथवा warning के नुकसाn  पहुंचाता है। कम्प्यूटर   virus     ko failane ka aasan tarika network internet or email ka bdta hua upyog hai   आ उपयोग है। आमतौर पर कम्प्यूटर वायरस आपके कम्प्यूटर में निम्न प्रकार से आ सकता है-
1. संक्रमित प्रोग्राम के उपयोग से wireless programme use
2. संक्रमित फाइल के उपयोग से wireless file use
3. संक्रमित फ्लापी डिस्क के साथ डिस्क diske drive ड्राइव में कम्प्यूटर computer बूट करने से
4. पाइरेटेड सॉफ्टवेयर के उपयोग से
Computer virus  अपने आप जेनरेट नहीं होते, बल्कि ये vairus लोगों द्वारा पूरी सूझ-बूझ से ready किए गए program होते हैं। कुछ लोग इसे अपने computer  की safety  के लिए प्रयोग करते हैं तो some  लोग इसे विध्वंस मचाने के लिए ready करते हैं। कम्प्यूटर वायरस के प्रकार
वायरस कई प्रकार के होते हैं, परन्तु अधिकांश  भा go  में बांटा गया है-

1. बूट सेक्टर . Boot sector
2. फाइल वायरस file
3. मैक्रो वायरस mekro virus